विज्युअल लर्निंग से बायोलॉजी की पढ़ाई को मजेदार बनाने के पांच तरीके

बायोलॉजी ऐसा विषय है जिसे काफी अधिक मात्रा में दृश्य रूप में सीखा और सिखाया जा सकता है। बायोलॉजी हर उस जीव के बारे में है जो एक जगह से दूसरी जगह जा सकता है, इसलिए बायोलॉजी में वास्तविकता है। फिर भी इस विषय में कई ऐसी चीजें भी हैं जो सामान्य आँखों से दिखाई नहीं देती और यही वजह बायोलॉजी को रोमांचक बनाती है। इस विषय की दो बाधाएं हैं जिनकी वजह से इसकी पढ़ाई कठिन लग सकती है। श्री. विनय एमआर, शिक्षक और चीफ कन्टेन्ट ऑफिसर - बायजूज - द लर्निंग ऐप के अनुसार, एक बाधा है शब्दों की, बायोलॉजी में शब्द यकीनन जटिल हैं। दूसरी बाधा है कि, कुछ चीजें हम सामान्य आँखों से देख नहीं पाते, इसलिए छात्र उनकी कल्पना नहीं कर पाते कि वो कैसा होगा, क्या होगा आदि तय कर पाना मुश्किल होता है। यहाँ विज्युअल लर्निंग ऐप उनकी मदद करता है। सम्पूर्ण थ्रीडी विज्युअल अनुभव से छात्रों को चीजों का 360 डिग्री दर्शन कराया जाता है। इस तरह से बायोलॉजी की पढ़ाई अधिक ज्यादा मजेदार और सरल बनती है। नीचे दिए गए पांच तरीकों से बायोलॉजी की पढ़ाई को काफी ज्यादा मजेदार बनाया जा सकता है। बच्चें इन तरीकों को अपना कर न केवल बायोलॉजी को सरलता से सीख पाएंगे बल्कि बायोलॉजी को चाहने भी लगेंगे। संवादात्मक चित्र और वीडिओज रू किताबों से सिखाने के साथ-साथ छात्रों को शिक्षा के दौरान संवादात्मक वीडिओज, एनिमेशन्स, पॉडकास्टस आदि दिखाइए। सिखाने की प्रक्रिया में संवादात्मक खेलों को भी शामिल करने से छात्रों का पढ़ाई में मन लगा रहता है। किताबी पढ़ाई के साथ-साथ इन सभी गतिविधिओं को शामिल करने से विषय ज्यादा वास्तविक बनता है, बच्चें ज्यादा सीखते हैं, ज्यादा बातें याद रख पाते हैं और सीखी हुई बातों को वास्तविक जिंदगी से जोड़ पाते हैं। शब्दों के तोड़िए रू छात्रों को बायोलॉजी पढ़ना कठिन लगता है क्योंकि बायोलॉजी में कई जटिल शब्द हैं। बायोलॉजी में हर शब्द का आंतरिक अर्थ होता है। शब्द का अर्थ समझे बिना उसे याद करने की कोशिश कामयाब नहीं हो पाती। आपको यह समझना होगा कि ऐसे सभी शब्द वास्तव में छोटे छोटे शब्दों के मिलाप से बनते हैं और जब आप उन्हें तोड़ते हैं तो वो भी दूसरे आम अंग्रेजी शब्दों की तरह ही दिखते हैं। विषय को रोजाना जिंदगी से जोड़िए रू विषय को चाहने वाले छात्र होते हैं। कुछ ऐसे छात्र होते हैं जो विषय को अपनी रोजाना जिंदगी से जोड़ने के बारे में सोचते हैं। विषय को सिखाते हुए अपनी रोजाना जिंदगी से जुड़े उदाहरणों के जरिए सिखाने से छात्रों की विषय और पढ़ाई में रूचि बनी रहती है, बढ़ती है।व्यावहारिक और क्रियाशील गतिविधियां रू किताब में दिए गए प्रयोग करने के लिए छात्रों को प्रेरित कीजिए। उदाहरण के तौर पर, छात्रों को फोटोसिंथेसिस का प्रयोग करने के लिए कहे, ऑक्सिजन की मौजूदगी को कैसे पहचानना है वो प्रयोग करने के लिए कहे। यह करना छात्रों के लिए मजेदार होगा, इस तरह से आप उनके मन में विषय के प्रति रूचि निर्माण कर सकते हैं। अभयारण्य या चिड़ियाघर की सैर रू कक्षा के बाहर की शिक्षा छात्रों के लिए हमेशा मजेदार होती है। आप उन्हें किसी अभयारण्य, चिड़ियाघर या बोटॉनिकल गार्डन की सैर करा सकते हैं। इससे छात्रों को शिक्षा में बदलाव मिलेगा जोकि उनकी विषय की समझ को अधिक बढ़ाएगा।