पाकिस्तान ने थार एक्सप्रेस पर भी रोक लगाई

पाकिस्तान ने थार एक्सप्रेस पर भी रोक लगाई

नई दिल्ली: जम्मू और कश्मीर से आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35 ए हटाए जाने के बाद पाकिस्तान लगातार भारत के खिलाफ चाल चलने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. इसी कड़ी में पाकिस्तान ने एक और ट्रेन बंद कर दी है. कराची से जोधपुर तक चलने वाली थार एक्सप्रेस का पाक ने संचालन ठप कर दिया है. गुरुवार को पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस का संचालन ठप कर दिया था.

बीते साल जनवरी 2018 में भारत और पाकिस्तान ने राजस्थान के जोधपुर से कराची तक थार लिंक एक्सप्रेस/थार एक्सप्रेस का विस्तार करने का फैसला किया था. ट्रेन 31 जनवरी, 2021 तक के लिए एक्स्टेंड की गई थी.

साल 1965 में भारत और पाकिस्तान ने एक दूसरे के खिलाफ पहली बड़ी लड़ाई लड़ी थी. इस युद्ध के दौरान पाकिस्तान के एयर फोर्स ने मुनाबाव-खोखरापार रेल लिंक पर बम बरसाए. इसके बाद करीब 41 साल तक यह रेल लिंक बंद रहा था.

पाकिस्तान ने गुरुवार को समझौता एक्सप्रेस पर रोक लगा दी थी. पाकिस्तान ने अपने ड्राइवर और गार्ड को स्टेशन भेजने से इनकार कर दिया. ट्रेन रुकने से वाघा-अटारी बॉर्डर पर 110 पैसेंजर फंस गए थे. हालांकि भारत ने अपना इंजन और ड्राइवर भेजकर अटारी पर रोकी गई समझौता एक्सप्रेस को वापस बुला लिया है. पाकिस्तान के समझौता एक्सप्रेस बंद करने के बावजूद भी फिलहाल भारत की तरफ से इस ट्रेन को बंद नहीं किया जाएगा.

समझौता एक्सप्रेस पुरानी दिल्ली से रविवार और बुधवार को चलती है. ये ट्रेन रात 11:10 बजे चलती है और अगले दिन सुबह 7:15 बजे अटारी पहुंचती है. वहीं, ये ट्रेन सोमवार और शुक्रवार को पाकिस्तान की तरफ से चलती है. इसके अटारी से चलने का समय है रात 8:00 बजे और पुरानी दिल्ली पहुंचने का समय

भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली यह एक व्यापक रेल सेवा है. दोनों देशों के बीच चलने वाली यह सबसे पुरानी रेल सेवा है. ये ट्रेन आजादी से पहले अविभाज्य हिंदुस्तान के समय से चलती आ रही है. पहले इसका नाम सिंध मेल हुआ करता था. साल 1892 में हैदराबाद-जोधपुर रेलवे के तहत इसे शुरू किया गया था. हैदराबाद-जोधपुर रेलवे लाइन पाकिस्तान के कराची-पेशावर रेलवे लाइन से जोड़ती है.