एमिटी की प्रेक्षी गर्ग को ओरल प्रस्तुति में मिला प्रथम पुरूस्कार

एमिटी की प्रेक्षी गर्ग को ओरल प्रस्तुति में मिला प्रथम पुरूस्कार

एमिटी यूनिवर्सिटी में आयोजित पाल्यूशन कन्ट्रेल एण्ड सस्टेनेबल इंर्वायन्मेंट सम्मेलन का समापन

लखनऊ: एमिटी स्कूल ऑफ़ एप्लाइड साइंसेज, एमिटी विश्व विद्यालय लखनऊ परिसर द्वारा आयोजित पाल्यूशन कन्ट्रेल एण्ड सस्टेनेबल इंर्वायन्मेंट विषयक दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का आज समापन हो गया।

प्रदूषण और इसके दुष्परिणामों के प्रति युवाओं में जागरूकता बढ़ाने के लिए आयोजित इस सम्मेलन में देश भर के शिक्षण संस्थानों से 100 से अधिक प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। सम्मेलन के दौरान इन प्रतिभागियों ने 20 मौखिक एवं 30 पोस्टर प्रजेंटेशन दिए। इन प्रस्तुतियों में सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुति का चुनाव करने के लिए प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। जिसमें पोस्टर प्रेजेंटेशन के लिए प्रथम पुरस्कार बनारस हिन्दू विवि, वाराणसी की शालिनी गुप्ता और कविता साह को, द्धितीय पुरस्कार एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ़ बायोटैक्नालाजी की साक्षी पांडेय को और तृतीय पुरस्कार एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ़ बायोटैक्नालाजी की गौरी चतुर्वेदी, मुस्कान अग्रवाल, ताल्या सुल्तान और आरती कटियार को दिया गया।

वहीं ओरल प्रस्तुतियों के लिए प्रथम पुरस्कार एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ़ बायोटैक्नालाजी की प्रेक्षी गर्ग को, द्धितीय पुरस्कार एमिटी स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग एण्ड टैक्नाॅलाजी के हरनीत नरूला को और तीसरा पुरस्कार एमिटी स्कूल ऑफ़ एप्लाइड साइंसेज को दिया गया।

कार्यक्रम के दूसरे दिन सीएसआईआर, भारतीय विषविज्ञान शोध संस्थान के मुख्य वैज्ञानिक एवं क्वालिटी मैनेजर प्रोफेसर वीपी शर्मा ने प्लास्टिक वेस्ट एण्ड डिजासटर मैनेजमेंट विषय पर और भारतीय विषविज्ञान शोध संस्थान के ही वैज्ञानिक डा. बी श्रीकान्त ने एयर क्वालिटी मानिटरिंग विषय पर अपना व्याख्यान दिया।

इस दौरान एमिटी विवि लखनऊ परिसर के प्रति कुलपति डा. सुनील धनेष्वर, डीन रिसर्च विज्ञान एवं तकनीकि, डा. कमर रहमान, विभागाघ्यक्ष एमिटी स्कूल ऑफ़ एप्लाइड साइंसेज, डा. असिता कुलश्रेष्ठ, एवं प्रवक्तागण सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करायी।

Lucknow, Uttar Pradesh, India