उपचुनाव में बरक़रार रहेगा सपा-रालोद का गठबंधन

उपचुनाव में बरक़रार रहेगा सपा-रालोद का गठबंधन

लखनऊ: लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) की करारी शिकस्त के बाद पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने प्रदेश में होने वाले चुनाव में किसी भी प्रकार के गठबंधन से इनकार किया था। मगर अभी विधानसभा उपचुनाव के लिए सपा ने कुल 11 सीटों में से अलीगढ़ जिले की इगलास सीट राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के लिए छोड़ दी है।

सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि अभी हमारा राष्ट्रीय लोकदल के साथ गठबंधन बरकार है। सपा ने अलीगढ़ जिले की इगलास सीट रालोद के लिए छोड़ दी है। वह भी इस चुनाव में हमारा समर्थन कर रहे हैं। राजनीति संभावनाओं का खेल है। रालोद हमारा अच्छा सहयोगी है। उधर रालोद प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मसूद अहमद ने कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव में रालोद को समाजवादी कोटे की सीटें मिली थीं। चुनाव के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अलग हो गई, लेकिन रालोद व सपा का गठजोड़ अभी भी बरकरार है। अहमद ने बताया कि हमें सपा ने अपने कोटे से अलीगढ़ की इगलास सीट दी है।

रालोद के अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह ने अलीगढ़ जिले की इगलास सीट पर पूर्व में घोषित उम्मीदवार को बदल दिया है। रालोद के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने बताया कि इगलास विधानसभा सीट पर पूर्व में घोषित प्रत्याशी मुकेश कुमार को बदलकर सुमन दिवाकर को उम्मीदवार बनाया गया है।

ज्ञात हो कि लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से भाजपा को 62 और सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को 15 सीटें मिली थीं। इनमें 10 सीट बसपा, जबकि पांच सीट सपा को मिली थी। इसके बाद से सपा और बसपा का गठबंधन टूट गया। वर्तमान में दोनों अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं।