कमलेश तिवारी हत्याकांड: हत्यारों को पिस्टल देने वाला कानपुर से गिरफ्तार

कमलेश तिवारी हत्याकांड: हत्यारों को पिस्टल देने वाला कानपुर से गिरफ्तार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चर्चित कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में एक और आरोपी को गिरफ्तार किया गया। जिस आरोपी को गिरफ्तार किया गया उस पर हत्यारों को पिस्टल उपलब्ध कराने का आरोप है। आरोपी को यूपी और गुजरात एटीएस ने कानपुर से गिरफ्तार किया है। आरोपी का नाम यूसुफ खान है जो मूल रूप से यूपी के फतेहपुर का रहने वाला है।

यूसुफ की मानें तो उसने सूरत में हत्यारों को पिस्टल दी थी। युसूफ खान पिछले कुछ समय से गुजरात में रह रहा था। शाम 6 बजे कानपुर के घंटाघर से युसूफ खान की गिरफ्तारी हुई है।

बता दें कि हिंदू महासभा के पूर्व नेता और हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी (50) की दो बदमाशों ने लखनऊ में बेरहमी से हत्या कर दी थी। दोनों बदमाश भगवा कपड़े पहने हुए थे और मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर लाए थे।

दोनों नाका स्थित खुर्शेदबाग की तंग गलियों में स्थित कमलेश के घर पहुंचे। पहली मंजिल स्थित पार्टी दफ्तर में पहले उनकी गर्दन पर गोली मारी थी। फिर चाकू से ताबड़तोड़ वार करने के बाद गला रेत दिया था। पुलिस ने मौके से .32 बोर की एक पिस्टल व एक खोखा बरामद की थी। कमलेश की हत्या की वारदात से अफसरों में हड़कंप मच गया था।

उत्तर प्रदेश एटीएस ने अपने बयान में बताया कि 18 अक्टूबर को कमलेश तिवारी की दो लोगों ने हत्या कर दी थी। मामले के मुख्य आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन उर्फ फरीद पठान को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।

कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में एटीएस की टीम ने हत्यारोपियों के मददगार वकील नावेद के तीसरे साथी कामरान को गुरुवार तड़के बरेली से गिरफ्तार किया था। एटीएस के मुताबिक, कामरान ने हत्यारोपियों को नेपाल पहुंचाने में मदद की थी। वह हत्यारोपियों की मदद करने वाले दिल्ली हाई कोर्ट के वकील का बेहद करीबी थी। इस मामले में हाई कोर्ट के वकील नावेद अपने दो साथियों के साथ पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

Lucknow, Uttar Pradesh, India