11 से 13 मार्च को बैंककर्मियों की देशव्यापी हड़ताल

11 से 13 मार्च को बैंककर्मियों की देशव्यापी हड़ताल

वेतन समझौते व अन्य मांगों हेतु बैंककर्मियों का विशाल प्रदर्शन

लखनऊ। यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन्स के बैनर तले आज सायं केनरा बैंक, आलमबाग पर सैकड़ो बैंककर्मियों ने पिछले तीन वर्षो से लम्बित वेतन समझौता न किये जाने के विरोध, 5 दिवसीय बैंकिंग, पेन्शन तथा पारिवारिक पेन्शन अपडेशन की मांग करते हुये विशाल प्रदर्शन एवं सभा की।

एन.सी.बी.ई. के प्रदेश महामंत्री काम0 के.के.सिंह ने बताया कि पिछले दिनों मुख्य श्रम आयुक्त राजीव वर्मा ने बार-बार बैंककर्मियों की हड़ताल के कारण आमजन की आर्थिक परेशानी को देखते हुये आईबीए को फटकार लगाई तथा 15 दिनों में वार्ताकर आंदोलन समाप्त कराने तथा 5 मार्च तक समझौता वार्ताओं की प्रगति रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिये। का0 सिंह ने कहा कि आईबीए का रूख स्पष्ट नहीं है अतः मार्च 11 से 13 को हम तीन दिवसीय हड़ताल पर जायेंगे तब भी मांगे पूरी न होने पर 1 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जायेगें।

काम0 अरविन्द त्रिपाठी, महामंत्री, एन.ओ.बी.ओ. ने कहा कि बैंककर्मी लम्बे समय से अपनी पेन्शन एवं पारिवारिक पेन्शन की मांग कर रहे हैं परन्तु सरकार एवं बैंक संघ ने ये मांगे भी नहीं मानी जिससे बैंककर्मी एवं परिवार भूखों मरने की कगार पर पहुॅच गया है।

आयबाॅक महामंत्री दिलीप चौहान ने कहा कि केन्द्र सरकार एवं बैंक संघ 5 दिवसीय बैंकिंग हेतु सैद्वांतिक सहमति देने के बाद भी उसे लागू करने से मना कर रहे हैं। केन्द्र सरकार तथा आईबीए हमारी दो दिवसीय देशव्यापी हड़ताल के बाद भी अपनी हठधर्मिता पर अड़ा हुआ है, अब अगर हम अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए तो निश्चय ही बैंकिंग ढांचा चरमरा जाएगा।

यू.एफ.बी.यू. के प्रांतीय संयोजक वाई.के.अरोड़ा ने कहा बैंककर्मियों को समान कार्य हेतु समान वेतन, सेवानिवृत्त लाभों पर कोई टैक्स न हो तथा विशेष भत्ते को मूलवेतन में समायोजित करने की मांग की।

फोरम के लखनऊ संयोजक अनिल श्रीवास्तव ने बताया कि पिछले दिनों एक प्रतिनिधि मंडल ने माननीय राज्यपाल महोदया से मिलकर माननीय प्रधानमंत्री को सम्बोधित एक ज्ञापन सौंपा था लेकिन अभी तक हमें कोई उत्तर प्रधानमंत्री कार्यालय से प्राप्त नहीं हुआ है।

प्रदर्शन को दीप बाजपेई (एआईबीईए), अरविन्द त्रिवेदी (एनओबीओ) पवन कुमार (आॅयबाक), सन्दीप सिंह (इनबाॅक), वी.के.सेंगर (एनसीबीई), एस.के.अग्रवाल (एआईबीओए), डी.एस.सिकरवार (एनओबीडब्ल्यू), विभाकर कुशवाहा (इनबेफ), छोेटेलाल (बेफी), एस.के. संगतानी, डी.पी.वर्मा (एनसीबीई) आदि बैंक नेताओं ने भी संबोधित किया। सभा में बड़ी संख्या में महिला बैंककर्मी भी उपस्थित रही।

सभा के अंत में मीडिया प्रभारी अनिल तिवारी ने बताया कि अब अगले चरणों में 3 मार्च-कैन्डिल मार्च, 7 मार्च-धरना तथा 9 मार्च-प्रदर्शन आदि विरोध कार्यक्रम 11 से 13 मार्च की देशव्यापी हड़ताल के पूर्व किये जायेंगे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India