इंटरनेट यूज में शिखर पर भारत

इंटरनेट यूज में शिखर पर भारत

नई दिल्ली: भारतीय यूजर्स पहले के मुकाबले काफी ज्यादा इंटरनेट यूज कर रहे हैं। इसके पीछे सबसे बड़ी वजह है डेटा प्लान्स का सस्ता होना। वहीं, सस्ते और एंट्री लेवल 4G स्मार्टफोन्स ने यूजर्स को तेजी से ऑनलाइन कॉन्टेंट की तरफ खींचने का काम किया है। ढेरों ऐप्स और विडियो स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म्स पर यूजर हर महीने 11GB से ज्यादा डेटा खर्च कर रहे हैं। यह आंकड़ा टेलिकॉम प्रॉडक्ट्स बनाने वाली कंपनी नोकिया ने जारी किया है। कंपनी ने अपनी ऐनुअल मोबाइल ब्रॉडबैंड इंडिया ट्रैफिक इन्डेक्स (MBiT) रिपोर्ट में कहा कि 2019 में ओवरऑल डेटा ट्रैफिक और 4G का इस्तेमाल 47 प्रतिशत तक बढ़ा है।

देशभर में यूजर्स ने जितना डेटा खर्च किया है उसमें 96 प्रतिशत 4G डेटा है। वहीं 3G डेटा ट्रैफिक में पहले के मुकाबले 30 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है। नोकिया इंडिया सीएमओ अमित मारवाह ने कहा, 'ऐवरेज मंथली डेटा यूजेस पर यूजर दिसंबर में 11 जीबी से भी ज्यादा रहा, जिसमें 16 प्रतिशत तक की अनुअल ग्रोथ देखने को मिली है। इसकी वजह 4G नेटवर्क पर अपग्रेडेशन, सस्ते डेटा प्लान, अफॉर्डेबल स्मार्टफोन्स और पहले से कहीं ज्यादा विडियोज की पॉप्युलैरिटी है।'

नोकिया इंडिया सीएमओ ने कहा कि भारत में डेटा कंजम्पशन दुनियाभर में सबसे ज्यादा है और भारतीय यूजर्स ने चीन, यूएस, फ्रांस, साउथ कोरिया, जापान, जर्मनी और स्पेन जैसे मार्केट्स को पीछे छोड़ दिया है। एक जीबी डेटा की मदद से सामान्य तौर पर यूजर्स 200 गाने स्ट्रीम कर सकते हैं, या फिर एक घंटे तक हाइ-डेफनिशन विडियो देख सकते हैं। डेटा का बढ़ता हुआ इस्तेमाल इसपर भी निर्भर करता है कि स्ट्रीम किए जा रहे कंटेंट की क्वॉलिटी क्या है, यह स्टैंटर्ड डेफनिशन (SD), हाई-डेफनिशन (HD) और अल्ट्रा हाई-डेफनिशन (UHD) हो सकती है।

खास बात यह है कि ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल भारत में 47 प्रतिशत किया जाता है, जो चीन के 95 प्रतिशत और यूरोप के बाकी देशों के 95-115 प्रतिशत के मुकाबले काफी कम है। मारवाह ने कहा कि भारत में भी ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल जरूरी टेक्नॉलजी को डिवेलप कर बढ़ाया जा सकता है। भारत में डेटा की कीमत भी दुनियाभर में सबसे कम 7 रुपये प्रति 1 जीबी डेटा है। भारत में करीब 59.8 करोड़ 4G डेटा यूजर्स हैं, वहीं 3G यूजर्स की संख्या करीब 4.4 करोड़ तक है। भारत में विडियो स्ट्रीमिंग ओवर-द-टॉप (OTT) प्लैटफॉर्म्स का इस्तेमाल भी तेजी से बढ़ा है।