मध्य प्रदेश में मामा की वापसी

मध्य प्रदेश में मामा की वापसी

शिवराज सिंह चौहान ने चौथी बार संभाली मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री

भोपाल: शिवराज सिंह चौहान चौथी बार मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री बन गए हैं। राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली। इससे पहले, सोमवार शाम बीजेपी विधायक दल की बैठक में उन्‍हें नेता चुन लिया गया था। नेता चुने जाने के बाद शिवराज ने कहा, "मैं ईमानदारी से मध्‍य प्रदेश के विकास के लिए काम करूंगा। लेकिन अभी COVID-19 के प्रसार को रोकना उद्देश्‍य है। मैंने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की है कि शपथग्रहण समारोह का जश्‍न न मनाएं और सड़कों पर न निकलें। उन्‍हें घर पर रहना चाहिए और नई सरकार के लिए प्रार्थना करनी चाहिए।"

भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पार्टी विधायकों की बैठक में प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने दल के नेता के चयन के लिए विधायकों को आमंत्रित किया। जिस पर पूर्व नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने विधायक दल के नेता के रूप में चौहान के नाम का प्रस्तावित किया, जिसका सभी विधायकों ने समर्थन किया। बैठक में पर्यवेक्षक बनाए गए राष्‍ट्रीय महासचिव अरुण और एमपी के प्रभारी विनय सहस्‍त्रबुद्धे वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए। भाजपा की सरकार बनना तय है, क्योंकि वर्तमान में भाजपा के पास सदन में उपलब्ध सदस्यों की संख्या के मुकाबले बहुमत है।